You are here
Home > GENERAL STUDIES NOTES > INDIAN GEOGRAPHY NOTES > परमाणु शक्ति वाले खनिज  Nuclear power minerals (Ch-57)

परमाणु शक्ति वाले खनिज  Nuclear power minerals (Ch-57)

 प्रकृति में ऐसे तत्व को जिनके परमाणु में ऊर्जा होती है उन्हें अणुशक्ति वाले खनिज या रेडियो एक्टिव तत्व कहते हैं।
Ex – यूरेनियम, थोरियम, बेरिलियम, ग्रेफाइट, इल्मेनाइट, जिरकॉन, एंटीमनी (सुरमा)
– यूरेनियम, थोरियम जैसे रेडियोएक्टिव तत्वों के विखंडन से परमाणु ऊर्जा प्राप्त होती है।
– 1kg यूरेनियम के विखंडन से उतनी ही ऊर्जा प्राप्त होती है जितना 25 लाख kg कोयला के जलाने से
1kg ur = 25 लाख kg कोयला
– प्रकृति में ur स्वतंत्र रूप से पाया जाता है लेकिन थोरियम प्रकृति में स्वतंत्र रुप से नहीं पाया जाता है यह मोनाजाइट खनिज या मोनोजाइट बालू में पाया जाता है।
यूरेनियम ur
– यूरेनियम में स्वतः विखंडन क्षमता होती है अर्थात इसमें से स्वतः ऊर्जा निकलती रहती है इसलिए यह परमाणु विद्युत के उत्पादन के लिए अधिक महत्वपूर्ण है।
– ur के प्रमुख अयस्क – पिचब्लेड सामरस्काइट, थोरियानाइट
– भारत का 70% यूरेनियम उत्पादन झारखंड के सिंहभूमि जिले के जादू गोंडा की खान से होता है।
– भारत में ur के चार क्षेत्र हैं।
1- जादूगोड़ा          – झारखंड
2- बगजाता           – झारखंड
3- खाँसी पहाड़ी पर – महाडस्क, मेघालय
4- आंध्र प्रदेश         – तुम्मलापल्ली
थोरियम
– थोरियम केरल तट पर मोनाजाइट बालू में प्राप्त किया जाता है।
– भारत विश्व में थोरियम का सबसे बड़ा उत्पादक राष्ट्र है।
– लेकिन थोरियम स्वतः विखंडित नहीं होने के कारण उतना उपयोगी नहीं है।
ग्रेफाइट
– ग्रेफाइट के दो मुख्य उपयोग हैं
1- परमाणु रिएक्टर के मंदक के रूप में
2- पेंसिल के लेड के रूप में
– ग्रेफाइट कार्बन का अपरूप है।
जिरकॉन
– जिरकॉन केरल तट के मोनाजाइट बालू से प्राप्त होता है।

Comments

comments

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top