You are here
Home > GENERAL STUDIES NOTES > भारत की प्रमुख झीलें (अध्याय -20 भारत का भूगोल )

भारत की प्रमुख झीलें (अध्याय -20 भारत का भूगोल )

भारत की सबसे बड़ी झील चिल्का झील है| चिल्का एक लैगून झील है अर्थात खारे पानी की झील है लैगून झील के खारे पानी का संपर्क हमेशा समुद्रीय पानी से बना रहता है। कभी-कभी लैगून झील का सँकरा मुख समुद्रीय अवसाद से ढक जाता है तथा लैगून झील का मुख विरुद्ध हो जाने के कारण समुद्री जल से लैगून झील का संपर्क टूट जाता है।

अन्य लैगुन झीलें

1- चिल्का

2- कोलेरू, पुलिकट

– कोलेरू, कृष्णा और गोदावरी नदियों के डेल्टा के बीच में है जबकि पुलिकट आंध्र प्रदेश व तमिलनाडु के सीमा पर है।

– पुलीकट झील में ही श्रीहरिकोटा द्वीप है जिस पर isro का सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र स्थापित है।

3- बेम्बानाद, अष्ठमूदि

केरल के लैगून झीलों को कयाल कहते हैं। (स्थानीय नाम)

– केरल के कयाल झील बेम्बानाद झील के बीचो-बीच वेलिंगटन द्वीप है वेलिंगटन द्वीप पर नौकायन प्रतियोगिता आयोजित होती है।

– भारत के ताजे पानी की सबसे बड़ी झील वूलर झील है।

झेलम नदी बेरीनाग झील से निलकर श्रीनगर होते हुए वूलर झील से होकर गुजरती है।

– वूलर झील गोखुर झील का उदाहरण है।

नदिया मैदानी भाग में विसर्पण करने लगती हैं और जब नदियां अपने विसर्प को किनारे छोड़कर सीधे बहने लगती है तो उसके द्वारा छोड़े गए विसर्प को गोखुर झील कहते है।

– वुलर झील के निर्माण पर विवर्तनिक क्रिया का भी प्रभाव है।

– राजस्थान की अधिकतर जिले लवणीय हैं हालांकि राजस्थान की झीलें पवन द्वारा निर्मित है। लेकिन राजस्थान की झीले लवणीय है जो कि इस बात का प्रमाण है कि सभी क्षेत्रों में टेथिस सागर का अस्तित्व था।

– चूंकि राजस्थान में बहने वाली तेज हवा जब किसी विशेष स्थान की बालू उड़ा ले जाती है तथा थाला का निर्माण कर देती है तो वहां जल भरने से झील का निर्माण होता है।

– महाराष्ट्र का लोनार झील ज्वालामुखी क्रिया द्वारा निर्मित है ऐसे झील को क्रेटर झील कहते हैं।

क्रेटर-  ज्वालामुखी का मुख

अर्थात ज्वालामुखी के मुंह में पानी भर जाने से बनी झील को क्रेटर झील कहते हैं।

– पूर्वोत्तर भारत की ताजे पानी की सबसे बड़ी झील लोकटक झील (मणिपुर) है लोकटक झील में तैरता हुआ राष्ट्रीय पार्क केबुललाम जाओ है।

– नदियों के पानी को रोककर मानव निर्मित झील बनाया जाता है।

चंबल नदी का पानी रोककर तीन मानव निर्मित झील बनाया जाता है।

1- गांधी सागर झील – चंबल नदी – मध्य प्रदेश

2- जवाहर सागर झील – चंबल नदी – राजस्थान

3- राणा प्रताप सागर झील- चंबल नदी- राजस्थान

भारत की सबसे बड़ी मानव निर्मित झील गोविंद सागर झील है जो हिमाचल प्रदेश में सतलज नदी पर है।

गोविंद सागर झील – सतलज नदी – हिमाचल प्रदेश

पंजाब में भाखड़ा बांध के निर्माण के कारण हिमाचल प्रदेश में गोविंद सागर झील का निर्माण हुआ है। (सतलज नदी पर)

तेलंगाना में दो मानव निर्मित जिले हैं।

1- निजाम सागर – मंजीरा नदी – तेलंगाना

2- नागार्जुन सागर – कृष्णा नदी – तेलंगना

– उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ के सीमा पर गोविंद बल्लभ पंत नामक मानव निर्मित झील है।

गोविंद बल्लभ पंत – रेहान नदी – उत्तर प्रदेश का सोनभद्र जिला तथा छत्तीसगढ़

रेहान नदी – सोन की सहायक नदी छत्तीसगढ़ी से निकलती है।

स्टेनले झील – कावेरी नदी – तमिलनाडु

Comments

comments

3 thoughts on “भारत की प्रमुख झीलें (अध्याय -20 भारत का भूगोल )

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top