You are here
Home > GENERAL STUDIES NOTES > ब्रह्मपुत्र नदी (अध्याय -16 भारत का भूगोल )

ब्रह्मपुत्र नदी (अध्याय -16 भारत का भूगोल )

ब्रह्मपुत्र नदी तंत्र

– ब्रम्हपुत्र नदी तीन देशों से होकर प्रवाहित होती है।  चीन, भारत, बांग्लादेश

– ब्रम्हपुत्र नदी को चार अलग-अलग नामों से जाना जाता है। Shop with Amazon Pay Balance & get 2% cashback (up to INR 2400) on all eligible purchases on Amazon.

1- चीन के तिब्बत पठार पर सांगपो नदी

2- अरुणाचल प्रदेश में दिहांग नदी

3- असम घाटी में ब्रह्मपुत्र नदी

4- बांग्लादेश में जमुना नदी

– ब्रह्मपुत्र नदी तिब्बत के पास मानसरोवर झील के पास से निकलती है और हिमालय के साथ-साथ पूर्व की ओर बहती है।

–  ब्रह्मपुत्र नदी हिमालय की सबसे पूर्वी चोटी नामचा बरवा के समीप यू (u) टर्न लेकर अरुणाचल प्रदेश में प्रवेश करती है। तथा अरुणाचल प्रदेश में वृहद हिमालय को काटकर एक गहरे खड्ड या गार्ज का निर्माण करती है जिसे दिहांग गार्ज कहा जाता है।

अरुणाचल प्रदेश में ब्रह्मपुत्र में दो नदियां आकर मिलती हैं।

दिबांग और लोहित तथा इसके बाद ब्रह्मपुत्र नदी असम घाटी के समतल मैदान में प्रवेश कर जाती है तथा असम में सदिय से धुबरी तक पूर्व से पश्चिम की ओर रैंप घाटी में प्रवाहित होती है इस रैंप घाटी के उत्तर में हिमालय तथा दक्षिण में शिलांग पठार है।

रैंप घाटी – संकरा समतल मैदान

– असम में ब्रह्मपुत्र नदी गुंफित जलमार्ग बनाती है इस जल मार्ग में ब्रम्हपुत्र नदी के बीच में कई नदी द्वीप पाए जाते हैं। इन नदी दीपों में माजुली सबसे बड़ा नदी द्वीप है।

– हाल ही में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड ने माजुली को सबसे बड़ा नदी दीप घोषित किया है।

– असम सरकार ने माजुली को नदी जिला घोषित किया है जो भारत का एकमात्र नदी जिला है।

– माजुली की भूमि अत्यधिक उपजाऊ होने के कारण यहां धान की खेती होती है।

– असम में सदियों से लेकर धुबरी तक प्रवाहित होने के बाद ब्रह्मपुत्र नदी धुबरी के पास अचानक मुड़ कर बांग्लादेश में प्रवेश कर जाती है जहां इसे जमुना नदी के नाम से जाना जाता है।

– सिक्किम के जेमू ग्लेशियर से निकलने वाली तीस्ता नदी बांग्लादेश में जमुना नदी से मिल जाती है तथा बांग्लादेश में जमुना नदी पदमा नदी से मिलती है तथा दोनों की संयुक्त धारा पदमा नदी कहलाती है परंतु जब मणिपुर से निकलने वाली बराक या मेघना नदी बांग्लादेश में पदमा नदी से मिलती है तो संयुक्त धारा को मेघना नदी कहा जाता है तथा मेघना नदी बंगाल की खाड़ी में गिरती है।

 ब्रह्मपुत्र की सहायक नदिया

– दिबांग, लोहित, तीस्ता, मानस (भूटान से निकलकर असम में ब्रह्मपुत्र से मानस नदी मिलती है) धनश्री, सुनानसिरी, जियाभरेली, पगलादिया, पिथुमारी |

Comments

comments

9 thoughts on “ब्रह्मपुत्र नदी (अध्याय -16 भारत का भूगोल )

  1. This is really appreciable job being executed by your team..in fact, this is a revolution in the field of education. What a devotion, not having words to say anything. God bless you for this initiation.
    In fact, you are a source of inspiration, a reason to fight for their goals, who have never thought before to do so.
    This is amazing, this shows still humanity is existing in this world as you are doing everything for the needy students who don’t have resources, guidance and money..
    This is real contribution towards betterment of our society and country.
    Once again, thank you so much for being with the students even in adverse circumstances. May god bless every member of your team. Jai hind.
    Regards.

  2. Sir apka Es note ki kimat paise dwara nhi chukaya ja sakta..iski kimat anmol hai…agar mai life me kuch achha krunga to shreya apke notes ko jayega

  3. क्या नोट्स का प्रिटं निकाला जा सकता है ?

  4. Many many thanks Sir. This is only due to your guidance that we inspired and got valuable notes in North East region as I am posted here in IAF.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top