You are here
Home > GENERAL STUDIES NOTES

परिवहन: राष्ट्रीय राजमार्ग National Highway Indian Geography (CH- 70)

परिवहन सड़क परिवहन – भारत विश्व का तीसरा सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क है। – USA, China, India – भारत में 4 तरह की सड़कों का विकास किया गया है। – राष्ट्रीय राजमार्ग (NH) – राज्य राजमार्ग – जिला सड़के – ग्राम सड़के राष्ट्रीय राजमार्ग (National Highway) – भारत में लोक निर्माण विभाग (PWD) की स्थापना 1854 में लॉर्ड डलहौजी के

प्राकृतिक गैस और पाइप लाइन NATURAL GAS INDIAN GEOGRAPHY (CH-62)

प्राकृतिक गैस और पाइप लाइन – प्राकृतिक गैस पेट्रोलियम भंडारों के ऊपर तैरती रहती है। – प्राकृतिक गैस LPG से अलग है LPG तेल शोधनशालाओ में उपउत्पाद के रूप में प्राप्त की जाती है। – मेथेन (ch4) का रिसाव जहां वनस्पति सड़ता है वहां से मेथेन (ch4) गैस का रिसाव होता है। 1- धान के

भारत की सभी खाने और खनिज INDIAN GEOGRAPHY (CH-63)

खान                                                   राज्य                                   खनिज केंदुझर, बोनाई, कालाहांडी         

खनिज के भंडार एवं उत्पादन INDIAN GEOGRAPHY (CH-64)

खनिज के भंडार एवं उत्पादन खनिज                        भण्डार                 उत्पादन बॉक्साइट                    उड़ीसा                उड़ीसा, गुजरात लोहा                          कर्नाटक            1-  उड़ीसा उड़ीसा             2-  छत्तीसगढ़ 3- 

ऊर्जा परिदृश्य POWER PRODUCTION ELECTRICITY INDIAN GEOGRAPHY (CH-65)

ऊर्जा परिदृश्य – विश्व में सर्वाधिक ऊर्जा उत्पादक और उपभोक्ता देश USA है । भारत का इस मामले में पांचवा स्थान है जून 2017 में देश में विधुत की स्थापित क्षमता –  329000 मेगावाट, जिसमें विभिन्न क्षेत्रों का अंशदान – 1- तापीय विधुत (thermal power energy) – 67 % 2- जल विधुत (hydro power) – 14% 3- परमाणु

जल विधुत उर्जा HYDROELECTRICITY INDIAN GEOGRAPHY (CH – 66)

जल विधुत उर्जा (HYDROELECTRICITY) – जब जल के माध्यम से विधुत उत्पादन होता है अर्थात जब नदी जल या बांध के जल के सहारे टरबाइन नचाकर विधुत उत्पादन होता है तो उसे जल विधुत ऊर्जा कहते हैं। – भारत की नदियों में अभिज्ञात जल विधुत क्षमता –  145000 mw – जून 2017 तक देश में जल विधुत की स्थापित

ऊर्जा : ENERGY RENEWABLE AND NON-RENEWABLE INDIAN GEOGRAPHY (CH-67)

ऊर्जा (ENERGY) को कई आधारों पर बांटा गया है। नवीकरणीय ऊर्जा, अनवीकरणीय ऊर्जा परंपरागत ऊर्जा, गैर परंपरागत ऊर्जा, प्रदूषणकारी ऊर्जा स्त्रोत, अप्रदूषणकारी ऊर्जा स्त्रोत नवीकरणीय ऊर्जा (RENEWABLE ENERGY) – जल विधुत, ऊर्जा, सौर ऊर्जा, पवन ऊर्जा, और ज्वारीय ऊर्जा, तरंग ऊर्जा भूतापीय ऊर्जा – (पृथ्वी के अंदर चूना पत्थर एवं डोमोमाइट के कारण) OTEC ऊर्जा

परमाणु विधुत ऊर्जा NUCLEAR PRODUCTION NUCLEAR REACTOR INDIAN GEOGRAPHY (CH-68)

परमाणु विधुत ऊर्जा – भारत में परमाणु विधुत  की कुल उत्पादन क्षमता कुडनकुलम के दोनों रिएक्टरों के संचालित होने के बाद 2017 में 6780 mw हो गई है। – भारत ने रूस के साथ मिलकर तमिलनाडु के तिरुनेवेल्ली जिले के कुडानकुलम में 1-1 हजार मेगावाट के 2 परमाणु रिएक्टरों की स्थापना हेतु

गैर परंपरागत ऊर्जा स्रोत RENEWABLE ENERGY INDIAN GEOGRAPHY (CH-69)

गैर परंपरागत ऊर्जा स्रोत – किसी भी देश का विकास ऊर्जा पर निर्भर होता है भविष्य में ऊर्जा संकट को ध्यान में रखकर आवश्यक है कि देश में विद्यमान गैर परंपरागत ऊर्जा स्त्रोतों की संभावनाओं को विकसित किया जाए। – गैर परंपरागत ऊर्जा स्त्रोत के अंतर्गत सौर ऊर्जा पवन ऊर्जा, भूतापीय ऊर्जा,

खनिज संसाधन MINERALS RESOURCES ( CH – 51 )

खनिज संसाधन ( MINERALS RESOURCES) - भारत खनिज संपदा की दृष्टि से एक समृद्ध राज्य है। भारत में प्रत्येक तरह का खनिज पाया जाता है। - खनिज तीन प्रकार के होते हैं - 1- धात्विक खनिज - 2 प्रकार - 1- लौह खनिज -  लौह अयस्क, मैगनीज, निकेल, क्रोमियम, कोबाल्ट, टंगस्टन 2- अलौह खनिज

Top