You are here
Home > GENERAL STUDIES NOTES > INDIAN GEOGRAPHY NOTES > ऊर्जा परिदृश्य POWER PRODUCTION ELECTRICITY INDIAN GEOGRAPHY (CH-65)

ऊर्जा परिदृश्य POWER PRODUCTION ELECTRICITY INDIAN GEOGRAPHY (CH-65)

ऊर्जा परिदृश्य
– विश्व में सर्वाधिक ऊर्जा उत्पादक और उपभोक्ता देश USA है ।
भारत का इस मामले में पांचवा स्थान है
जून 2017 में देश में विधुत की स्थापित क्षमता –  329000 मेगावाट,
जिसमें विभिन्न क्षेत्रों का अंशदान –
1- तापीय विधुत (thermal power energy) – 67 %
2- जल विधुत (hydro power) – 14%
3- परमाणु विधुत  – 2%
4- नवीकरणीय ऊर्जा (renewable energy) – 17%
– भारत में सर्वप्रथम विधुत आपूर्ति 1897 में दार्जिलिंग में हुई थी।

वर्तमान में देश में पांच उर्जा (ELECTRICITY) ग्रिड हैं।

1- उत्तर भारत ग्रिड
2- दक्षिण भारत ग्रिड
3-  पश्चिमी भारत ग्रिड
4-  पूर्वी भारत ग्रिड
5- पूर्वोत्तर भारत ग्रिड

देश में सर्वाधिक विधुत (ELECTRICITY) खपत वाले क्षेत्र क्रमशः

1- उद्योग – 35%
2- कृषि  –  27%
3- घरेलू क्षेत्र –
– देश में सर्वाधिक स्थापित विधुत क्षमता वाला राज्य – महाराष्ट्र
– सर्वाधिक विधुत उत्पादन वाला राज्य – महाराष्ट्र
– सर्वाधिक ताप विधुत क्षमता वाला राज्य –  महाराष्ट्र
– सर्वाधिक ताप विधुत उत्पादन वाला राज्य – महाराष्ट्र
– सर्वाधिक जल विधुत की स्थापित क्षमता वाला राज्य –  आंध्र प्रदेश
– सर्वाधिक जल विधुत उत्पादन वाला राज्य –  हिमाचल प्रदेश
– सर्वाधिक सौर विधुत उत्पादन वाला राज्य –  गुजरात
– सर्वाधिक सौर ऊर्जा का संभावना वाला राज्य – राजस्थान
– सर्वाधिक पवन विधुत उत्पादक वाला राज्य –  तमिलनाडु
– सर्वाधिक नाभिकीय विधुत  स्थापित क्षमता वाला राज्य – तमिलनाडु
– देश का शत प्रतिशत ग्रामीण विधुतीकरण वाला पहला राज्य – हरियाणा
– संख्या के आधार पर सर्वाधिक ग्राम विधुतीकरण वाला राज्य – U P
– सर्वाधिक विधुत  की मांग और खपत वाला राज्य –  महाराष्ट्र

विधुत (ELECTRICITY)  की दर को मेगावाट, किलोवाट, वाट में दर्शाते हैं।

1MW = 1000 KW
1KW = 1000 Wt
– जबकि बिजली की खपत को किलोवाट – घंटा में दर्शाते हैं।
1 किलोवाट – घण्टा = 1 unit
For ex – आप 100 वाट के 10 बल्ब 1 घंटा तक जलाएंगे तो कुल खपत =?
100 × 10 = 1000 वाट
अर्थात 1000 वाट घंटा = 1 किलो वाट घंटा = 1 unit ( bill)

POST CREDIT – targetwithalok.com

Comments

comments

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top