You are here
Home > GENERAL STUDIES NOTES > अंक्षाश, देशांतर, समय, और अंतरराष्ट्रीय तिथि रेखा (अध्याय -5 विश्व भूगोल)

अंक्षाश, देशांतर, समय, और अंतरराष्ट्रीय तिथि रेखा (अध्याय -5 विश्व भूगोल)

– विषुवत रेखा या भूमध्य रेखा पृथ्वी को दो बराबर भागो में बाटती है- उत्तरी गोलार्ध एवं दक्षिणी गोलार्ध
– विषुवत रेखा के उत्तर या दक्षिण में किसी भी बिंदु की पृथ्वी के केंद्र से मापी गयी कोणीय दूरी की माप को अंक्षाश रेखा कहते हैं।
– विषुवत रेखा (0°) भी एक अंक्षाश रेखा है।
– अंक्षाश रेखाएं विषुवत रेखा के उत्तर एवं दक्षिण में प्रत्येक 1° के अंतर पर खिंची गयी हैं।
– विषुवत रेखा के केंद्र तथा ध्रुव के बीच 90° का कोंण बनता है, अर्थात उतरी गोलार्ध में 90° अंक्षाश रेखाएं तथा दक्षिणी गोलार्ध में 90 अंक्षाश रेखाएं खिंची जाएगी ।
कुल अंक्षाश रेखा = 90+ 90+1( विषुवत वृत)= 181

– अंक्षाश रेखा = अंक्षाश वृत

– विषुवत रेखा या भूमध्य रेखा सबसे लंबी अंक्षाश रेखा है।
– सबसे छोटी अंक्षाश रेखा 90° है, उतरी ध्रुव एवं दक्षिणी ध्रुव पर अंक्षाश रेखा एक बिंदु के रूप में पाया जाता हैं।

23 1बाई 2° उतरी अंक्षाश- कर्क रेखा
23 1बाई 2° दक्षिणी अंक्षाश – मकर रेखा
– कर्क रेखा और मकर रेखा के बीच का क्षेत्र – उष्ण कटिबंध वाला क्षेत्र
– दो अंक्षाशो के बीच 1° का अंतर होता हैं तथा इनके बीच की दूरी 111 km की होती है।
या 1° = 111 km
–  पृथ्वी पर उतरी ध्रुव से दक्षिणी ध्रुव पर खिंची गयी रेखा देशांतर रेखा कहलाती है। देशांतर रेखा वृत न होकर रेखा है जो एक ध्रुव से शुरू होकर दूसरे ध्रुव पर समाप्त हो जाता है।
– पृथ्वी पर प्रत्येक 1° पर एक देशांतर रेखा खिंची गयी हैं चुकी पृथ्वी गोलाकार है, इसलिए
पृथ्वी पर खिंची गयी कुल देशांतरीय रेखा = 360
– जो देशांतर रेखा लंदन के ग्रीनविच से होकर गुजरती है, उसे 0° देशांतर रेखा माना गया है तथा उसके पूर्व में स्थित देशांतर रेखा को पूर्वी देशांतर रेखा तथा पश्चिम में स्थित देशांतर रेखा को पश्चिमी देशांतर रेखा कहा जाता है।
– ग्रीनविच रेखा को जीरो डिग्री देशांतर रेखा या प्रधान याम्योत्तर रेखा कहते हैं।
. .
. पृथ्वी 307 डिग्री घूमती है 24 घंटे में या 1440 मिनट में
.
.  . 1°                  1440
——-
360  =4 मिनट
.
.   .  प्रत्येक देशांतर के मध्य 4 मिनट का अंतर है।
– चुकि पृथ्वी पश्चिम से पूर्व की ओर घूमती है इसी कारण 0° देशांतर से पूर्व की ओर समय आगे तथा पश्चिम की ओर समय पीछे होता है।

– भारत का समय ग्रीनविच के समय से 5 घंटा 30 मिनट आगे है।

– किसी भी देश की देशांतरीय विस्तार अत्यधिक होने के कारण वहां के अलग-अलग जगहों पर समय में बहुत अंतर पड़ जाता है इसलिए भी सुविधा के लिए प्रत्येक देश में एक मानक समय मान लिया गया है।
– भारत में 82 सही 1 बटे 2 डिग्री पूर्वी देशांतर रेखा है जो इलाहाबाद के नैनी से गुजरती है भारत का मानक समय मान लिया गया अर्थात यहां का समय पूरे भारत का समय माना जाएगा।
82 सही 1 बटे 2 डिग्री पूर्वी देशांतर रेखा भारत के 5 राज्यों से गुजरती है up, mp, ch, ud, Andhra Pradesh
–  उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, आंध्र प्रदेश
– भारत का समय ग्रीनविच के समय से 5 घंटा 30 मिनट आगे है।
82 1

4   × 330 मिनट = 5 घण्टा 30 मिनट
– 180 डिग्री पूर्वी देशांतर रेखा एवं 180 डिग्री पश्चिम देशांतर रेखा एक ही होती है।
– 0° देशांतर रेखा से 180 डिग्री पूर्वी देशांतर रेखा 12 घंटा आगे तथा 0° देशांतर रेखा से 180 डिग्री पश्चिम देशांतर रेखा 12 घंटा पीछे होता है।
– 180 डिग्री पूर्वी और पश्चिमी देशांतर को पार करने पर 24 घंटे का अंतर माना जाता है।
चूंकि पूर्वी देशांतर का समय आगे माना जाता है तथा पश्चिमी देशांतर का समय पीछे माना जाता है।
अगर 180 डिग्री पूर्वी देशांतर के पश्चिम में आज मंगलवार है तो 180 डिग्री पूर्वी देशांतर के पूर्व में आज सोमवार होगा ।
– 180 डिग्री पूर्वी और पश्चिमी देशांतर रेखा को अंतर्राष्ट्रीय तिथि रेखा कहा जाता है। 180 अंतर्राष्ट्रीय तिथि रेखा के पश्चिम का समय आगे और पूरब का समय पीछे होता है ।
– अक्षांश और देशांतर रेखाएं पृथ्वी पर खींची गई काल्पनिक रेखाएं हैं जो ग्रिड का निर्माण करती हैं।
– अक्षांश और देशांतर रेखा की मदद से पृथ्वी पर स्थित किसी भी जगह को locate किया जा सकता है।

Comments

comments

3 thoughts on “अंक्षाश, देशांतर, समय, और अंतरराष्ट्रीय तिथि रेखा (अध्याय -5 विश्व भूगोल)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top