You are here
Home > GENERAL STUDIES NOTES > पूर्वोत्तर भारत की पहाड़ियां और हिमालय का नदियों के आधार पर विभाजन (अध्याय -8 भारत का भूगोल )

पूर्वोत्तर भारत की पहाड़ियां और हिमालय का नदियों के आधार पर विभाजन (अध्याय -8 भारत का भूगोल )

सिडनी बुरार्ड नामक भूगर्भशास्त्री ने नदियों के आधार पर हिमालय का विभाजन किया |

कश्मीर हिमालय

या पंजाब हिमालय   ———        सिन्धु एव सतलज नदी के बिच
कुमाऊ हिमालय ————     सतलज एवं कलि नदी के बिच
नेपाल हिमालय ————–    कलि नदी एवं तीस्ता नदी के बिच
असम हिमालय ————-      तीस्ता नदी एवं दिहांग नदी के बिच

कश्मीर हिमालय में वैष्णो देवी का मन्दिर , अमरनाथ गुफा, जरी – ए – शरीफ है /
कुमाऊ हिमालय मुख्य रूप से उतराखंड में है / कुमाऊ हिमालय की चोटिया — नन्दादेवी, कमेट, त्रिशूल, ब्न्द्रपुछ, केदारनाथ, बद्रीनाथ, ; फूलो की घाटी; एवं दूँ था द्वार भी कुमाऊ हिमालय के अंतर्गत आता है /
हिमालय के सबसे उची चोटिया नेपाल हिमालय के अंतर्गत आती है /

टाइगर हिल —- प० बंगाल
दफ़ला हिमालय —– अरुडाचल प्रदेश
मिरी पहाड़ी —- अरुडाचल प्रदेश
अबोर पहाड़ी — अरुडाचल प्रदेश
मिस्मी पहाड़ी —- अरुडाचल प्रदेश
पटकई बूम —  अरुडाचल प्रदेश
नागा पहाड़ी —-  नागालैंड
लैपाटोल पहाड़ी — मणिपुर
मिकिर पहाड़ी — असम
रेगमा पहाड़ी —    असम
मिजो पहाड़ी — मिजोरम
बरायल पहाड़ी — असम (हिमालय का भाग)
गारो पहाड़ी —- मेघालय
खाँसी पहाड़ी — मेघालय (खाँसी पहाड़ी पर शिलांग तथा चेरापूंजी हैं)
जयंतिया पहाड़ी —- मेघालय

गारो खाँसी जयंतिया मेघालय के जनजातियों के नाम पर हैं।

– मेघालय पूरी तरह से पठारी क्षेत्र है। तथा गारो खांसी तथा जयंतिया पहाड़ियों को सम्मिलित रूप से मेघालय का पठार या शिलांग का पठार कहते हैं। मेघालय में मैदान नहीं पाया जाता है।
शिलांग पठार हिमालय का हिस्सा नहीं है क्योंकि इसके चट्टान हिमालय के चट्टान से मेल नहीं खाते हैं शिलांग पठार प्रायद्वीपीय पठार का भाग है।

राजमहल पहाड़ी (पश्चिम बंगाल) छोटा नागपुर पठार का पूर्वी भाग है तथा प्राचीन काल में राजमहल पहाड़ी के पूर्वी विस्तार को ही शिलांग पठार के नाम से जाना जाता है परंतु राजमहल पहाड़ी एवं शिलांग पठार के बीच गंगा एवं ब्रह्मपुत्र नदी के बहाव के कारण गैप आ गया है जिसे राजमहल गारो गैप कहा जाता है(मालदा गैप)|
तथा इसी के परिणाम स्वरुप बांग्लादेश के मैदानी भागों का निर्माण हुआ बांग्लादेश पूरी तरह से मैदानी देश है, यहां पर्वत, पठार और पहाड़ी नहीं पाए जाते हैं।

नदियों का देश — बांग्लादेश

नहरों का देश — पाकिस्तान

– असम के रेगमां और मिकिर पहाड़ी हिमालय का भाग नहीं है परंतु यह शिलांग पठार का भाग है, अर्थात प्रायद्वीपीय पठार का भाग हैं।

Comments

comments

8 thoughts on “पूर्वोत्तर भारत की पहाड़ियां और हिमालय का नदियों के आधार पर विभाजन (अध्याय -8 भारत का भूगोल )

  1. Sir मिकिर और रेगमा पहाड़ी हिमालय का भाग है या शिलांग पठार का

  2. हम लोग आप के कठिन मेहनत का धन्यवाद करे वह बहुत ही कम है आप ने इसके लिए अपनी जॉब भी छोड़ दी।
    आप को सलाम करते हैं सर।

  3. जब से आपके बारे में पता चला सर बहुत बहुत साधुवाद और सादर वंदे आपको तहेदिल से शुक्रियादा और मैं आपका बहुत बहुत आभार व्यक्त करता हु।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top