You are here
Home > GENERAL STUDIES NOTES > विश्व के पर्वत/चोटियां (विश्व भूगोल अध्याय-15 )

विश्व के पर्वत/चोटियां (विश्व भूगोल अध्याय-15 )

– दक्षिण अमेरिका

– दक्षिण अमेरिका महाद्वीप में पश्चिमी तट के साथ साथ उत्तर से दक्षिण तक विस्तृत दुनिया की सबसे लंबी पर्वत श्रेणी एंडीज है तथा इसकी सबसे ऊंची चोटी माउंट एकांकागुआ है।

 माउंट एकांकागुआ चिली देश में है।

– उत्तर अमेरिका

– दुनिया की दूसरी सबसे लंबी पर्वत श्रेणी रॉकी उत्तर अमेरिका महाद्वीप में कनाडा और अमेरिका में विस्तृत है रॉकी पर्वत की सबसे ऊंची चोटी माउंट एल्बर्ट है जो अमेरिका में है।

परंतु उत्तरी अमेरिका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट मैकिनले है जो अलास्का पर्वत श्रेणी पर स्थित है।

– अलास्का के पूर्व में अप्लेशियन पर्वत है तथा इसकी सर्वोच्च चोटी माउंट मिचेल है। अप्लेशियन पर्वत के क्षेत्र में उच्च कोटि का कोयला एंथ्रेसाइट का भंडार पाया जाता है यहां पर पेट्रोलियम का भी भंडार है।

– उत्तर अमेरिका महाद्वीप में राखी पर्वत के पश्चिम में दो पर्वत हैं।

1- सियरानीवाद पर्वत – कैलिफोर्निया राज्य में (usa)

2- कासकेड रेज – सर्वोच्च चोटी माउंट रेनियर(usa)

– अफ्रीका महाद्वीप

– अफ्रीका महाद्वीप का सबसे मुख्य पर्वत एटलस है इसकी सबसे ऊंची चोटी माउंट ट्यूबकाल है माउंट ट्यूबकाल मोरक्को में है।

– एटलस पर्वत तीन देशों में विस्तृत है – मोरक्को, अल्जीरिया, ट्यूनीशिया

– दक्षिण अफ्रीका में ड्रेकेन्सबर्ग पर्वत है।

– कांगो गणराज्य देश में मिटुम्बा पर्वत श्रेणी है।

– अफ्रीका महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट किलिमंजारो तंजानिया देश में है।

यूरोप महाद्वीप

– स्पेन और फ्रांस की सीमा पर पिरेनीज पर्वत हैं।

– आल्पस पर्वत इटली के उत्तर में स्थित है तथा इसकी सर्वोच्च चोटी माउंट ब्लैक है। लेकिन यूरोप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एल्बर्ट काकेशस पर्वत पर है। काकेशस पर्वत काला सागर एवं कैस्पियन सागर के बीच में है। रुस का विस्तार काकेशस पर्वत तक है तथा यह पर्वत रूस का हिस्सा है।

– जर्मनी में तीन पर्वत है।

1- वासजिस पर्वत

2-  ब्लैक फारेस्ट पर्वत

3- हार्टज़ पर्वत

एशिया

– एशिया का सबसे पश्चिमी देश – तुर्की में टॉरस पर्वत है

– एल्ब्रुज पर्वत –  ईरान की सरवोच्च चोटी- देमावेन्द

– जागरोस पर्वत – ईरान

– हिमालय पर्वत

– भारत नेपाल व तिब्बत (चीन) में विस्तार

– विश्व की तीसरी सबसे लंबी पर्वत श्रृंखला

– सर्वोच्च चोटी – माउंट एवरेस्ट (नेपाल में 8848 मीटर) विश्व की सबसे ऊंची चोटी

– भारत की सबसे ऊंची चोटी k2 अर्थात गॉडविन ऑस्टिन जम्मू कश्मीर राज्य में काराकोरम पर्वत पर है (8611 मीटर)

– हिमालय के उत्तर में पामीर का पठार है पामीर का पठार कई पर्वतों का मिलन बिंदु है।

जब कोई पठार कई पर्वतों का मिलन बिंदु होता है तो उसे गाठ या ग्रंथि कहते हैं।

 पामीर गांठ से चारों तरफ पर्वत निकले हुए हैं।

– पश्चिम की ओर – हिंदूकुश पर्वत – अफगानिस्तान

– दक्षिण पूर्व की ओर – काराकोरम पर्वत

– पूर्व की ओर – कुनलुन पर्वत (तिब्बत, चीन)

– उत्तर पूर्व की ओर – टीएनशान पर्वत (चीन)

– अरावली पर्वत – भारत

-गुजरात के पालनपुर से दिल्ली तक 700 km में

– गुजरात, राजस्थान, दिल्ली

– भारत की सबसे प्राचीन पर्वत श्रेणी

– पश्चिमी घाट पर्वत –  भारत

सर्वोच्च चोटी – अनाईमुदी (दक्षिण भारत की सबसे ऊंची चोटी)

– पूर्वी घाट पर्वत – भारत

– सतपुडा पर्वत – भारत (मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात)

– अराकान योमा पर्वत – म्यामांर

हिमालय पर्वत पूर्व की ओर दक्षिण की तरफ मुड़ जाता है तथा हिमालय को ही म्यांमार में आराकानयोमा पर्वत कहा जाता है। आराकानयोमा पर्वत आगे बंगाल की खाड़ी में डूब गया है। तथा कहीं-कहीं इसका भाग द्वीप के रूप में बाहर निकला हुआ है जिसे अंडमान निकोबार द्वीपसमूह कहते हैं।

– यूराल पर्वत – रूस

सर्वोच्च चोटी – गोरनैरोड़नाया

यूराल पर्वत से पूर्व की ओर के रूस के भाग को साइबेरिया कहते हैं साइबेरिया अत्यधिक ठंडा क्षेत्र है जिसके कारण रुस की अधिकतर आबादी यूराल पर्वत से पश्चिम की ओर रहती है अर्थात यूरोप महाद्वीप में निवास करती है।

– बर्खोयांस्क पर्वत – रूस

– ग्रेट डिवाइडिंग रेंज – ऑस्ट्रेलिया

सर्वोच्च चोटी – माउंट कोस्युस्को

पर्वत        सर्वोच्च चोटी         देश

– एंडीज        एकांकागुआ              चिली

– रॉकी           माउंट एल्बर्ट             USA

– अलास्का   MT मैकिनले      USA उत्तरी अमेरिका

महाद्वीप की सर्वोच्च

चोटी

– अप्लेशियन   mt मिचेल                    USA

– काशकेड      Mt रेनियर                   USA

– एटलस        mt  ट्यूबकल                 अफ्रीक

– आल्पस      mt ब्लैक                     इटली

– काकेशस     Mt एलब्रुस          रूस, यूरोप की

सर्वोच्च चोटी

– युराल        गोरनैरोड़नाया                    रूस

एलबुर्ज                देमाबन्द            ईरान

– हिमालय           एवरेस्ट         भारत, नेपाल, चीन

– पश्चिमी घाट      अनाईमुदी          भारत

– ग्रेट डिवाइडिंग रेंज – Mt कोस्युस्को – ऑस्ट्रेलिया

– brooks पर्वत     अलास्का         usa

– मैकेंनजी पर्वत     कनाडा

– कासकेड पर्वत        usa

– निटुम्बा पर्वत    कांगो गणराज्य

– ड्रेकेंसबर्ग पर्वत  दक्षिण अफ्रीका

– ब्लैक फॉरेस्ट     जर्मनी

– वासजेस पर्वत      जर्मनी

– टॉरस पर्वत          तुर्की

– एलबुर्ज पर्वत       ईरान

– जैग्रोस पर्वत        ईरान

– बरखोयस्क         म्यामांर

महाद्वीप                   सर्वोच्च चोटी

– एशिया                          एवरेस्ट नेपाल

– यूरोप                           माउंट एल्ब्रुस (रूस)

– उत्तरी अमेरिका            माउंट मैकिनले (अलास्का)

– दक्षिण अमेरिका            माउंट एकांकागुआ

– अफ्रीका                      माउंट किलिमंजारो

( तंजानिया)

–  ऑस्ट्रेलिया                  माउंट कोस्युस्को

– अंटार्कटिक                   विन्सन मैसिफ

पर्वत – समुद्र सतह से 1000 मीटर से अधिक ऊंचाई वाले भू भाग को पर्वत कहते हैं।

पहाड़ी – समुद्र सतह से 1000 मीटर से कम ऊंचाई वाले भूभाग को पहाड़ी कहते हैं।

– ऐसा भूभाग जिसका आधार चौड़ा तथा ऊपर वाला भाग नुकीला होता है अर्थात शिखर जैसा होता है पर्वत कहलाता है एक ही पर्वत पर कई शिखर हो सकते हैं।

पर्वत के प्रकार

1 वलित पर्वत

2- भ्रंशोत्थ पर्वत

3-ज्वालामुखी पर्वत

4-अवशिष्ट पर्वत

वलित पर्वत

– मोड़दार पर्वत, folded mountain

– पृथ्वी की आंतरिक शक्तियों द्वारा किसी विस्तृत भूभाग में संपडिनात्मक बल द्वारा (अर्थात दोनों तरफ से) जब भूभाग मुड़ जाता है तो वलित पर्वत तथा मोड़दार पर्वत का निर्माण होता है।

– दुनिया के सभी विशाल एवं ऊंचे पर्वत वलित पर्वत के उदाहरण हैं।

– एंडीज, हिमालय, रॉकी, युराल, आल्पस, एटलस etc

भ्रंशोंत्थ पर्वत (block mountain)

– भ्रंशोत्थ पर्वत का निर्माण खिंचाव के कारण भूमि धसने से भ्रंश घाटी का निर्माण होता है तथा भ्रंश घाटी के दोनों तरफ भ्रंशोत्थ पर्वत का निर्माण होता है।

– भ्रंशोत्थ पर्वत वास्तविक पर्वत नहीं होता बल्कि भ्रंश घाटी से देखने पर यह पर्वत की तरह प्रतीत होता है।

भ्रंशोत्थ पर्वत का दूसरा उदाहरण भारत में है।

भारत में मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात में विस्तृत सतपुड़ा पहाड़ी भ्रंशोत्थ पर्वत का उदाहरण है।

– भ्रंशोत्थ पर्वत का तीसरा उदाहरण सियरानीवादा पर्वत, usa के कैलिफोर्निया राज्य में है।

– दुनिया का सबसे बड़ा भ्रंशोत्थ पर्वत सियारानीवादा पर्वत है।

ज्वालामुखी पर्वत

– पृथ्वी के गर्भ से निकला मैग्मा के सतह पर ठंडा होने के परिणाम स्वरुप ज्वालामुखी पर्वत का निर्माण होता है।

अनुकूल परिस्थिति

1- सतह कमजोर हो

2- आस पास पानी हो ताकि भाप के दबाव से ज्वालामुखी विस्फोट हो।

– दुनिया में सर्वाधिक ज्वालामुखी पर्वत एंडीज पर पाए जाते हैं।

कुल 22

जिनमें से सबसे ऊंचा और सक्रिय ज्वालामुखी कोटोपैक्सी (इक्वाडोर) है।

हिमालय पर्वत पर ज्वालामुखी नहीं पाया जाता क्योंकि यह समुद्र से दूर है।

अवशिष्ट पर्वत

– पर्वत करोडो साल बाद हवा, जल, तापमान इत्यादि भौगोलिक दशाओं के कारण घिस घिसकर छोटे हो जाते हैं जिसे अवशिष्ट पर्वत कहा जाता है।

Ex- अरावली पर्वत, पश्चिमी घाट पर्वत, पूर्वी घाट पर्वत

Comments

comments

6 thoughts on “विश्व के पर्वत/चोटियां (विश्व भूगोल अध्याय-15 )

  1. Sir ji mujhe physical geography ka videos chahiye
    Agar payment karna ho to bataiye urgently
    Mera n. 7004820133
    9135137738

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Top